एक बार जरूर सुने और सुनाएं पितृ भक्त श्रवण कुमार की कथा भजन के माध्यम से


क्या आपने इस भजन को सूना ?  इस भजन में बताया गया है की मां बाप की सेवा करने का सौभाग्य बहुत मुस्किल से और भाग्यशाली इंसान को ही मिलता है ..... बहुत अच्छा भजन है सुनियेगा जरूर !!
लेकिन दुःख की बात है , आजकल मां बाप की सेवा बहुत कम ही लोग करते हैं .....
श्रवण कुमार को कौन नहीं जानता ?
श्रवण कुमार जैसा मात - पिता की सेवा करने वाला पुत्र अगर आज किसी मां - बाप का हो तो उस मां बाप जितना भाग्यशाली कोई नहीं !
इस कलयुग में हम देखते हैं की बच्चे अपने मां बाप को बुढापे में अकेला छोड़ देते हैं , उनकी हालत बहुत खराब होने पर भी उनके पास उनके बच्चे नहीं होते हैं, और एक और श्रवण कुमार थे जिन्होंने अपने मां बाप को काँधे पर उठा कर तीर्थ धाम घुमाया था |

समय के साथ - साथ बच्चों का मां बाप के प्रति प्रेम कम अति कम हो रहा है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की मां बाप के प्रति पुत्र प्रेम को बयान करते इस भजन / श्रवण कुमार कथा पर कितने कम व्यूज हैं |
कितनी ही खबर सुनने को मिलती हैं की बूढ़े मां बाप को बेटे ने घर से निकाल दिया आदि |
आखिर क्या हो गया है हमारे इस समाज को ? क्या यही शिक्षित समाज है ?
धिक्कार है ऐसी शिक्षा पर जो मां बाप की सेवा करना ना सिखा सके, आप इस भजन को इक बार जरूर सुनियेगा और शेयर करके औरों को भी सुनाइएगा !

धन्य हैं वो माँ बाप जिन्हें श्रवण जैसा पुत्र प्राप्त हुआ !  और भाग्यशाली है वह पुत्र जिसे पितृ सेवा का मौका मिला !